top of page

82 साल की वृद्धा के साथ एक ही परिवार के 10 लोगों ने मांगी इच्छामृत्यु, वजह 'बहू के ये सितम'


82 साल की वृद्धा के साथ एक ही परिवार के 10 लोगों ने मांगी इच्छामृत्यु, वजह 'बहू के ये सितम'

यूपी के कन्नौज जिले में एक के बाद एक कई मुकदमों से तंग एक ही परिवार के 10 लोग अब डीएम से इच्छामृत्यु की मांग कर रहे हैं। मुकदमाें में 82 साल की वृद्धा भी शामिल है जो बहू पर प्रताड़ना का आरोप लगा रही है। गुरुवार को वृद्धा ने परिवार के साथ कलक्ट्रेट में धरना दिया। जानकारी होने पर डीएम रवींद्र कुमार ने पीड़ित परिवार से मुलाकात की। परिवार ने बताया कि उन पर लगाए गए सभी मुकदमे फर्जी हैं। डीएम ने मामले में निष्पक्ष जांच के लिए एसपी किरीट राठोड़ से वार्ता कर परिवार को एसपी से मिलने के लिए भेजा। एसपी ने भी पीड़ित परिवार से मुलाकात कर न्याय का भरोसा दिलाया।

शहर के मोहल्ला लालामिश्र निवासी सिद्धेश्वरी पत्नी स्व. नरेंद्र नाथ के चार बेटे हैं। 82 साल की सिद्धेश्वरी का आरोप है कि इनमें से एक बेटे की बहू उन्हें व परिवार के अन्य लोगों को परेशान किए है। उसने उन पर व परिवार के नौ अन्य लोगों पर कई मुकदमे दर्ज कराए हैं। 2014 से वह लोग परेशान हैं। गुरुवार को सिद्धेश्वरी बेटे राजेश कुमार और बृजेश कुमार मिश्रा के साथ कलक्ट्रेट में डीएम के पास इच्छामृत्यु मांगने पहुंची। साथ में पौत्र रोहन, नवीन, देवेश, मृत्युंजय, प्रशांत, बहू पप्पी और प्रभा भी थीं।

सिद्धेश्वरी ने डीएम को बताया कि उनकी एक बहू ने सभी सदस्यों पर 16 फर्जी मुकदमे लगवाए हैं। इसमें बलात्कार, मारपीट, एससी-एसटी एक्ट, चोरी समेत कई धाराओं में मुकदमे शामिल हैं। उन पर लगाए गए सभी मुकदमें फर्जी हैं। उनके पक्ष में यदि मोहल्ले का कोई भी व्यक्ति गवाही देने को तैयार होता है तो उसे भी फर्जी मुकदमे फंसा दिया जाता है। ऐसे में परिवार अब अधिकारी, कोर्ट कचहरी के चक्कर काट कर थक चुका है। वह चाहता है कि उन्हें इच्छामृत्यु दे दी जाए। बहू की प्रताड़ना से तंग आकर बेटा भी दूसरे प्रांत में रहने को मजबूर है।

डीएम रवींद्र कुमार ने परिवार को भरोसा दिलाया कि उन पर लगे सभी मुकदमाें की निष्पक्ष जांच कराई जाएगी। उन्हें न्याय मिलेगा। डीएम ने मामले को लेकर एसपी किरीट राठोड़ से वार्ता कर परिवार को एसपी से मिलने के लिए भेजा। एसपी ने परिवार से मुलाकात कर उन्हें न्याय का भरोसा दिलाया। एसपी ने बताया कि परिवार के सदस्यों ने उनसे मुलाकात की थी। मामला उनके संज्ञान में नहीं था। उन पर लगाए गए सभी आरोपों की निष्पक्षता से जांच कराकर दोषियों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Source, here.

0 comments
bottom of page