मैं सक्षम नारी, तू क्यों बेचारी? - एक सशक्त नारी का बहाने बाज़ को सन्देश

From the writer of मैंने दहेज़ नहीं माँगा, Raman Rana, here's another beautiful poem मैं सक्षम नारी, तू क्यों बेचारी? (एक सशक्त नारी का एक झूठी और बहाने बाज़ नारी को सन्देश) showing a mirror to the feminist women!





मैं सक्षम नारी, तू क्यों बेचारी?

(एक सशक्त नारी का एक झूठी और बहाने बाज़ नारी को सन्देश)


मैं भी हूँ आज की नारी

न अबला, न बेचारी

अपने दम पर जीती हूँ मैं

न जीवन से कभी मैं हारी


पर सवाल मेरा है उस नारी से

जो खुद को कहती बेचारी

हर बात में देती दोष पुरुष को

जैसे हो समाज की मारी


वो कहती है मैं दुर्गा, मैं सीता का रूप हूँ

वो कहती है मैं राधा, मैं काली का स्वरूप हूँ

ये बोल हैं आज की नारी के

माँ बाप की उस दुलारी के


जो खुद को सीता बतलाती है

पर झूठ को सच बनाती है

जो राम को कहती अत्याचारी

पर खुद तोड़े मर्यादा सारी


जो कृष्ण को ग़लत ठहराती है

खुद हर गलती दोहराती है

100 बार झूठ बोल कर भी जो

अंत मे सीता बन जाती है


अरे तुम क्या जानो माँ सीता को

जो पूर्ण त्याग की मूरत थी

कैसे कह दूं तुझको राधा

जो निष्ठा प्रेम की सूरत थी


तू ईर्ष्या से है भरी हुई

ममता प्रेम से बिल्कुल खाली

तू कहलाएगी माँ दुर्गा?

जो बड़े बुज़ुर्ग को देती गाली


माँ दुर्गा है जगत की माता

ममता और स्नेह की गाथा

नहीं आसान है ऐसा बनना

देवी स्वरूप के जैसा बनना


आज की नारी का यही विचार

पति माँ बाप को करे दरकिनार

पैसे का लालच भरा हुआ

संसार है इनसे डरा हुआ

कानून को ये समझे बच्चा

घबरा जाए इनसे अच्छा अच्छा


नशा है करती, शराब भी पीती

पैसे के लिये झूठ बोलती

100 पाप कर के यदि उंगली उठे

अपना असली रूप खोलती


दुर्गा राधा या हो सीता

जीवन इनकी पूजा में बीता

देवी के नाम से न खुद को जोड़

एक दिन होगा तेरा भंडा फोड़


मैं भी औरत और माँ का रूप

बहन बेटी और ममता खूब

पर कड़वा सच एक बताती हूँ

झूठी महिलाओं सिखाती हूँ


न करो बदनाम भगवान को

राम कृष्ण के नाम को

समर्पित थे ये संसार को

सच्ची भक्ति और प्यार को


तुम देती हो इनको ही गाली

शर्म करो ए कलयुग वाली

मेरा बस ये एक कथन है

जीवन मे बस ये ही वचन है


तुम नही बन सकती दुर्गा या काली

कार्य करती सारे बवाली

बिल्कुल गलत है ये तुलना करना

पड़ेगा तुझे उस भगवान से डरना


कथन ये मेरा नहीं है ऐसा

जो हर महिला को कहे बुरा

मेरी लड़ाई बन उस महिला से

जो झूठ बोल बने दुर्गा


ऐसी नारी को मेरा सन्देश

नारी शब्द को न कर बदनाम

बेटी बहन और माँ है औरत

न कर खराब तू उनका नाम


The poet Raman Rana can be reached at raman8sept@gmail.com

Talk to our volunteer on our #Helpline

8882-498-498

Single Helpline Number For Men In Distress In India

Join our mailing list!  Stay up-to-date on upcoming projects, offers & events.

  • Follow Daaman on Facebook
  • Follow Daaman on Twitter

©2018-2020 Daaman Welfare Society & Trust.

All rights reserved.

Beware, anyone can be a victim of gender bias in society and laws! 

Don't wait: Schedule a conversation with a trusted, experienced Men's Rights Activist to find out how only awareness is the key to fight and remove prevailing gender bias against men in society.