तुम्हारी सोच से जकड़ा मैं राम

This beautiful poem "तुम्हारी सोच से जकड़ा मैं राम" has been written by Abhay Bharunt. It highlights the endless issues faced by common men in Shri Ram's own country Bharat.





तुम्हारी सोच से जकड़ा मैं राम


अनंत आदी काल का मैं राम

कलयुग में पुरुषार्थ और पुरुषोत्तम से बंधा, मैं राम

कलयुग में सीता जैसी सहभागी कि सोच और खोज करता, मैं राम

अपने आनन्द और प्रभुत्व का हनन करता, मैं राम


खुद संघर्ष कर दूसरों को उल्लास देता, मैं राम

सब पारिवारिक दायित्व निभाता, मैं राम

अपने अधिकार और सुख को वंचित करता, मैं राम

आधुनिक युग के वोट बैंक पॉलिटिक्स में फंसा, मैं राम


लक्ष्मण हनुमान और वानर सेना से विमुख, मैं राम

चिकित्सा शिक्षा से वंचित, मैं राम

चारो दिशा सुरपलका से घिरा, मैं राम

स्वयं ही स्वयं को मिटाता, मैं राम


फिर भी नहीं समझता, मैं राम

हे राम! हे राम! हे राम


The poet Abhay Bharunt can be reached at abhaybharunt@yahoo.com and over his phone at 9433448698

Talk to our volunteer on our #Helpline

8882-498-498

Single Helpline Number For Men In Distress In India

Join our mailing list!  Stay up-to-date on upcoming projects, offers & events.

  • Follow Daaman on Facebook
  • Follow Daaman on Twitter

©2018-2020 Daaman Welfare Society & Trust.

All rights reserved.

Beware, anyone can be a victim of gender bias in society and laws! 

Don't wait: Schedule a conversation with a trusted, experienced Men's Rights Activist to find out how only awareness is the key to fight and remove prevailing gender bias against men in society.